ALL Hindi literature/Hindi Kavita Etc. Research article literature News Interview Research Paper Guidline
 " आ अब लौट चलें"
June 19, 2020 • कुलदीप दहिया " मरजाणा दीप"

शीर्षक :- 

             " आ अब लौट चलें"
             --------------------------

हैं चारों ओर वीरानियाँ
खामोशियाँ, तन्हाईयाँ,
परेशानियाँ, रुसवाईयाँ
सब ओर ग़ुबार है !
        आ अब लौट चलें.....................

                               चीत्कार, हाहाकार है
                               मृत्यु का तांडव यहाँ,
                               है आदमी के भेष में
                              यहां भेड़िये हजार हैं !
                             आ अब लौट चलें...................

      खून से सनी यहाँ
इंसानियत की ढाल है,
नफ़रतों के ज़हर से
भरी आँधियाँ बयार हैं !
       आ अब लौट चलें.................

                             ज़मीर मिट चला यहाँ
                             क़ायनात शर्मसार है,
                             घोर अंधकार में यहां
                             गुमनामियाँ सवार हैं !
                       आ अब लौट चलें................

कस्तियां यहाँ डूब रही
लहरों में उभार है
है डूबता वही यहाँ
गुमाँ का जिसमें ख़ुमार है !
              आ अब लौट चलें....................

                         मुफ़लिसी के दौर में
                       मजबूरियां बेशुमार हैं,
                       नज़र जहां भी पड़े
                       अंगार ही अंगार हैं !
                        आ अब लौट चलें......................

      मंज़र ये कैसा यहाँ
       फ़िक्र में जहान है
ना सरहदें महफ़ूज यहाँ
सब  दिलों में ख़ार हैं !
       आ अब लौट चलें.....................
             
                          स्वार्थ को बेड़ियों से बंधे
                       सब गुमनामियों की कैद में,
                                सब्र है किसे यहाँ पे
                              तंग सोच से बीमार हैं !
                           आ अब लौट चलें................... 

  विश्वास के पनपते बूटों पे
दगाबाज़ इल्लियाँ सवार हैं,
कब तलक जलेगा "दीप" यूँ
दामन सभी दाग़दार हैं !
       आ अब लौट चलें...................!

           कुलदीप दहिया " मरजाणा दीप"
            शिक्षक एवं साहित्यकार 
             हिसार  ( हरियाणा )
            भारत ।