ALL Hindi literature/Hindi Kavita Etc. Research article literature News Interview Research Paper Guidline
ग़ज़ल
August 28, 2020 • जितेंद्र सुकुमार  'साहिर '
 

ग़ज़ल

 
बहर-2122 2122
 
दूर है मुझसे खुशी क्यों 
बिखरी सी है ज़िन्दगी क्यों 
 
चार दिन जीना है सबको
दिल में फिर ये दुश्मनी क्यों 
 
रोशनी दी जिसने हमको 
उसके घर में तीरगी क्यों 
 
आदमी का खूँ है पीता
अब यहा हर आदमी क्यों
 
आधुनिकता के भँवर में
हो गई गुम सादगी क्यों
 
 
✍जितेंद्र सुकुमार  'साहिर '
       शायर