ALL Hindi literature/Hindi Kavita Etc. Research article literature News Interview Research Paper Guidline
कविता, मुक्तक माला
February 7, 2020 • Dr.Mohan Bairagi
 
कविता
विविध मुक्तक माला।।।।।।।
1,,,,,,,
।।।आंतरिक शक्ति।।।।।।।। 
।।।।।।।।।।मुक्तक।।।।।।।।।।।
मत  आंकों     किसी  को    कम ,
कि सबमें कुछ बात होती है।
 
भीतर छिपी प्रतिभा कीअनमोल,
  सी    सौगात     होती   है।।
 
जरुरत है तो  बस उसे पहचानने,
और फिर निखारने  की।
 
तराशने  के बाद  ही  तो  हीरे से,
मुलाकात    होती     है।।
 
रचयिता।।।।एस के कपूर श्री हंस
बरेली।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।
मोब  9897071046।।।8218685464।।।।।।।
2,,,,,,
।। सफलता का सम्मान।।।।।।।।।।।।।।।।
।।।।।।।।।।।।मुक्तक।।।।।।
 
नसीबों  का   पिटारा   यूँ    ही
कभी खुलता नहीं है।
 
सफलता का सम्मान जीवन में
 यूँ ही घुलता नहीं है।।
 
बस कर्म  ही लिखता है  हाथ
की   लकीरें  हमारी ।
 
ऊँचा  हुऐ बिना  आसमाँ  भी
कभी झुकता नहीं है।।
 
रचयिता।।।।।एस के कपूर
श्री हंस।।।।।।बरेली।।।।।।
मोब  9897071046।।।।।
8218685464।।।।।।।।।।
3,,,,,
सत्य कभी मरता नहीं है।।।।
।।।।।।।।।मुक्तक।।।।।।।।।।
 
सच  कभी    मरता    नहीं
हमेशा  महफूज़   होता है।
 
ढेर में दब कर  भी जैसे ये 
चिंगारी और फूस होता है।।
 
लाख छुपा ले कोई उसको
काल  कोठरी   के  भीतर।
 
सात  परदों के पीछे से भी
जिंदा   महसूस   होता  है।।
 
रचयिता।।।।एस के कपूर श्री
हंस।।।।।।बरेली।।।।।।।।।।।
मोब  9897071046।।।।।।
8218685464।।।।।।।।।।।
4,,,,
सत्य कभी मरता नहीं है।।।।
।।।।।।।।।मुक्तक।।।।।।।।।।
 
सच  कभी    मरता    नहीं
हमेशा  महफूज़   होता है।
 
ढेर में दब कर  भी जैसे ये 
चिंगारी और फूस होता है।।
 
लाख छुपा ले कोई उसको
काल  कोठरी   के  भीतर।
 
सात  परदों के पीछे से भी
जिंदा   महसूस   होता  है।।
 
रचयिता।।।।एस के कपूर श्री
हंस।।।।।।बरेली।।।।।।।।।।।
मोब  9897071046।।।।।।
8218685464।।।।।।।।।।।