ALL Hindi literature/Hindi Kavita Etc. Research article literature News Interview Research Paper Guidline
सुंदरता की मूरत तू
April 9, 2020 • अख्तर अली शाह "अनंत" नीमच  • Hindi literature/Hindi Kavita Etc.

सुंदरता की मूरत तू
********
श्रीफल जैसा शीश बनाया,
कली कमल सी कोमल तू ।
नैन बनाए हैं मृग जैसे,
बिजली जैसी चंचल तू ।।
****
होठ संतरे की पांखें हैं,
दंतपंक्ति ड़ाढम जैसी ।
चन्दन जैसी गंध नशीली,
कर देती पागल कैसी ।।
*****
नाक तेरी है तोते जैसी,
कोयल सी वाणी मनहर ।
केले जैसी कमर बनी है,
कैसी प्यारी ऐ दिलबर ।।
******
महुआ फूलों से कपोल हैं ,
भंवरों सी भौहैं प्यारी ।
कुंतल तेरे बादल काले ,
प्यारी आँखें कजरारी ।।
******
गर्दन तेरी सुराही जैसी,
संगमरमरी तन तेरा ।
चाल चपल हिरणी सी पाई ,
सुरभित गुल है मन तेरा।।
***** 
कर्ण सुनें जो नहीं कहा है,
नजर भेदती अंदर तक ।
त्वचा तेरी स्पर्श समझती,
सोच पहुँचती अंबर तक ।।
*****
नहीं समझना आसां तुझको,
सुंदरता की मूरत है  ।
पढ़ा न जाए लिखा हुआ तू ,
परमपिता का वो खत है।।
******


अख्तर अली शाह "अनंत" नीमच